धूल की चादर से ढका पंजाब, सांस लेना हुआ मुश्किल, अभी राहत की उम्‍मीद नहीं


पंजाब के अधिकतर हिस्‍से धूल की चादर से ढ़क गए हैं। धूल भरी आंधी चलने और धूल बगा गुबार छाए रहने से सांस लेना बेहद मुश्किल हो गया है। वीरवार सुबह से ही चारों ओर धूल छाया हुआ है। सिटी ब्‍यूटीफुल चंडीगढ़ भी धूल के गुबार से ढ़क गया है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि अभी अगले कुछ दिनों में इससे निजात मिलने की संभावना नहीं है। इससे सड़कों और आसमान में दृश्‍यता भी कम हो गई है। इस कारण विमान सेवा पर भी असर पड़ा है।

चंडीगढ़, लुधियाना, पटियाला, बठिंडा सहित राज्‍य के अधिकतर शहरों और स्‍थानों पर धूल का गुबार छाया हुआ है। वीरवार को सुबह से ही चारों और धूल ही धूल है। कई जगहों पर धूल भरी आंधी चल रही है। इससे लोगों को सांस लेने में भी मुश्किल हो रही है। सबसे ज्‍यादा दिक्‍कत सांस के मरीजों को हो रही है। डॉक्‍टरों ने ऐसे लोगों को मास्‍क पहनकर बाहर आने को कहा है।

पीएयू की मौसम वैज्ञानिक डॉ. केके गिल के अनुसार मौसम का वर्तमान मिजाज पहेली बन गया है। विभाग का कहना है कि आने वाले दिनों में भी भीषण गर्मी के बीच आसमान में धूल की परत छाई रह सकती है। इस दौरान धूल भरी हवाएं भी चल सकती हैं। 15 जून से प्री मानसून बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के निदेशक सुरिंद्रपाल ने बताया कि राजस्थान में डस्ट स्टार्म आने के कारण पंजाब में धूल आसमान पर चढ़ी हुई है। अभी कई दिन तक ऐसे हालात बने रहेंगे।

धूल के कारण बुधवार को बठिंडा से जम्मू और जम्मू से बठिंडा की फ्लाइट को रद कर दिया गया। जम्मू से बुधवार को सुबह 9:10 की फ्लाइट ने बठिंडा 10:20 बजे पहुंचना था, लेकिन आसमान में धूल के कारण जम्मू से फ्लाइट उड़ान नहीं भर पाई। जम्मू से बठिंडा आने वाली फ्लाइट में 44 यात्रियों को सफर करना था। बठिंडा फ्लाइट नहीं पहुंचने के कारण बठिंडा से जम्मू के लिए भी फ्लाइट नहीं जा पाई। वहीं बठिंडा से जम्मू के लिए 54 यात्रियों को जाना था।

कहां कितना तापमान (डिग्री सेल्सियस)

स्थान अधिकतम न्यूनतम

पटियाला 46.2 29.4

अमृतसर 44.7 27.8

लुधियाना 43.1 28.1

जालंधर 42. 4 27

चंडीगढ 42.2 28.7

बठिंडा 41.6 26.6

  • 719
    Shares

LEAVE A REPLY