सरकार द्वारा की गई 2000 रुपए के नोट की छपाई में कटोती, क्या धीरे-धीरे गायब हो जाएंगे 2000 रुपए के नोट


2016 में नोटबंदी के बाद जारी किए गए 2000 रुपए के नोट पर खतरा मंडरा रहा है। वित्त मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी के अनुसार, 2000 रुपए के नोट की छपाई कम कर दी गई है और यह अपने न्यूनतम स्तर पर पहुंत गई है। इससे यह आशंका जताई जा रही है कि 2000 रुपए का यह नया नोट बैंकिंग सिस्टम से कभी भी गायब हो सकता है। हालांकि, अभी इसे बंद करने को लेकर कोई आधिकारिक फैसला नहीं हुआ है। नाम न छापने की शर्त पर एक बैंक अधिकारी ने भी कहा है कि आरबीआई ने बैंकों से 2000 रुपए का नोट ग्राहकों को नहीं देने को कहा है।

चलन से बाहर होने लगे 2000 रुपए के नोट

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़ों के अनुसार, 2000 रुपए नोट चलन से भी बाहर होने लगे हैं। आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2018 तक देश में कुल 18,03 लाख करोड़ रुपए की करेंसी चलन में थी। इसमें 2000 रुपए के नोट का हिस्सा 37.3 फीसदी था। वहीं इससे ठीक एक साल पहले यानी मार्च 2017 के अंत में कुल करेंसी में 2000 रुपए के नोट की हिस्सेदारी 50.2 फीसदी थी। इसी प्रकार 2017 के अंत तक 2000 रुपए के कुल 328.5 करोड़ नोट चलन में थे जो 2018 के अंत में घटकर 336.3 करोड़ रुपए रह गए थे।

  • 719
    Shares

LEAVE A REPLY